25 जनवरी, 2011





  फेडरेशन कप होगा नेशनल गेम्स का पूर्वाभ्यास
देश की टाप महिला-पुरुष टीमें झारखंड में भी दिखाएंगी जौहर
 झारखंड में 12 फरवरी से आयोजित होने वाले 34वें नेशनल गेम्स में सभी की नजरें टिकी रहेंगी बास्केटबाल पर क्योंकि इस खेल में छत्तीसगढ़ से पदक की पूरी उम्मीद है और वह भी महिला टीम से। झारखंड में क्या होगा यह तो समय के हाथों निहित है लेकिन इसका सही अनुमान अगले माह 10 फरवरी से आयोजित होने वाले फेडरेशन कप बास्केटबाल प्रतियोगिता से लगाना संभव हो सकेगा। फेडरेशन कप दरअसल नेशनल गेम्स का ही पूर्वाभ्यास होगा। क्योंकि इसमें वही टाप एट टीमें हिस्सा ले रही हैं जो नेशनल गेम्स में भी हिस्सा लेंगी। ऐसे में छत्तीसगढ़ को पदक मिलता है या नहीं या फिर कहां कमजोर साबित होंगे, इन सारी बातों का खुलासा हो जाएगा

रायपुर, २५ जनवरी, २०११.  राजधानी में अगले माह 10 फरवरी से आयोजित होने वाले फेडरेशन कप बास्केटबाल टूर्नामेंट की तैयारियां जारी हैं। इस प्रतियोगिता में मेजबान छत्तीसगढ़ की महिला और पुरुष दोनों टीमें हिस्सा ले रही हैं। छत्तीसगढ़ की पुरुष टीम को राज्य निर्माण के इस एक दशक में पहली बार फेडरेशन कप के लिए पात्रता मिली है। पिछले साल लुधियाना की सीनियर नेशनल बास्केटबाल चैंपियनशिप में छत्तीसगढ़ की पुरुष टीम ने सातवां स्थान हासिल कर फेडरेशन कप और नेशनल गेम्स की पात्रता हासिल की। छत्तीसगढ़ बास्कटेबाल संघ के सचिव और बास्केटबाल के अंतरराष्ट्रीय कोच राजेश  पटेल के मुताबिक 25वीं आईएमजी रिलायंस फेडरेशन कप नशनल बास्केटबाल चैंपियनशिप  एक तरह से झारखंड के 34वें नेशनल गेम्स का पूर्वाभ्यास होगा। फेडरेशन कप में उन्हीं शीर्ष आठ टीमों को इंट्री मिलती है जो सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में अंतिम आठ तक पहंचती हैं। इसी तरह नेशनल गेम्स में भी उन्हीं शीर्ष आठ टीमों को पात्रता मिलती है जो सीनियर नेशनल के अंतिम आठ तक पहुंचती है। श्री पटेल के मुताबिक झारखंड नेशनल गेम्स और फेडरेशन कप के लिए टीमों की घोषणा शीघ्र की जाएगी। जो टीम फेडरेशन कप खेलेगी वही टीम नेशनल गेम्स में भी हिस्सा लेगी। दोनों बड़ी स्पर्धाओं के लिए एक बार ही टीम घोषित की जाएगी। उन्होंन बताया कि नेशनल गेम्स में रेलवे को पात्रता नहीं मिलती लेकिन रेलवे की टीमें सीनियर नेशनल और फेडरेशन कप खेलती हैं। आल इंडिया इंटर रेलवे की विजेता महिला और पुरुष टीम को फेडरेशन कप की पात्रता दी जाती है। फेडरेशन कप के बाद नेशनल गेम्स में जो राज्य मेजबान होता है उसे आठवां स्थान दिया जाता है। फेडरेशन कप की महिला टीमों में मेजबान छत्तीसगढ़ सहित दक्षिण रेलवे चेन्नई, दिल्ली, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल और पंजाब तथा पुरुष वर्ग में वेस्टर्न रेलवे मुंबई, पंजाब, तमिलनाडु, उत्तराखंड, सर्विसेस, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश व मेजबान छत्तीसगढ़ शामिल है। पिछले फेडेरशन कप में महिला वर्ग में दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर की टीम विजेता थी। छत्तीसगढ़ की टीम इसलिए खिताब तक नहीं पहुंच सकी थी क्योंकि शीर्ष खिलाड़ी रेलवे का प्रतिनिधित्व कर रहीं थीं। श्री पटेल के मुताबिक फेडरेशन कप में महिला वर्ग में खिताब की पूरी उम्मीद है क्योंकि इस वर्ष बिलासपुर रेलवे फेडरेशन कप में शामिल नहीं है और ऐसे में रेलवे की राज्य की अंतरराष्ट्रीय महिला खिलाड़ी छत्तीसगढ़ का ही प्रतिनिधित्व करेंगी। पुरुष वर्ग में सेमीफाइनल तक पहुंचने की उम्मीद है।

प्रत्येक टीम खेलेगी तीन-तीन मैच
फेडरेशन कप में लीग कम नाकआउट आधार पर मुकाबले खेले जाएंगे और महिला व पुरुष वर्ग में दो पूल  बनाए जाएंगे। 10 फरवरी से 13 फरवरी तक लीग के मुकाबले खेले जाएंगे। लीग में प्रत्येक टीमों को एक-दूसरे के खिलाफ तीन-तीन मुकाबले खेलने होंगे। इसके बाद 14 को सेमीफाइनल मुकाबले होंगे। 15 फरवरी को फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। फेडरेशन कप के बाद छत्तीसगढ़ की टीमें झारखंड नेशनल गेम्स के लिए रांची के लिए रवाना हो जाएंगी।

ये होंगी टीमें
महिला : दक्षिण रेलवे चेन्नई (पिछले साल की आल इंडिचा इंटर रेलवे चैंपियन), दिल्ली, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल, पंजाब।
पुरुष : : वेर्स्टन रेलवे मुंबई (पिछले साल की आल इंडिया इंटर रेलवे चैंपियन),  पंजाब, तमिलनाडु, उत्तराखंड, सर्विसेस, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, छत्तीसगढ़।

छत्तीसगढ़ की संभावित टीमों के खिलाड़ी
महिला : अंजु लकड़ा, सीमा सिंह, भारती नेताम, एम पुष्पा, आकांक्षा सिंह, अरुणा किंडो, एल दीपा, शोषण तिर्की, निकिता गोदामकर, कविता (रेलवे बिलासपुर), कविता, जेलना जोस, रंजीता कौर, पुष्पा निषाद (बीएसपी), पूजा देशमुख (रायपुर), मुख्य प्रशिक्षक राजेश पटेल, सहायक प्रशिक्षक इकबाल अहमद खान, सरजीत चक्रवर्ती, एमवीवीजे सूर्यप्रकाश (बीएसपी)।
पुरुष : अजय प्रताप सिंह, अंकित पाणिग्रही, पवन तिवारी, समीर राय, के राजेश कुमार (बीएसपी), किरणपाल सिंह, लुमेंद्र साहू, मनोज सिंह, शिवेंद्र निषाद, श्रवण कुमार (रेलवे बिलासपुर), आशुतोष सिंह, जानक रानाथ कुमार, आनंद सिंह (दुर्ग), पुष्पांक (राजनांदगांव), मुख्य प्रशिक्षक आरएस गौर, सहायक प्रशिक्षक एस दुर्गेश राजु (बीएसपी), विपिन बिहारी सिंह (बिलासपुर)।

नजरें स्वर्ण पर
2002 के हैदराबाद नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला टीम ने   स्वर्ण पदक हासिल किया था। राज्य निर्माण के बाद छत्तीसगढ़ ने पहली बार नेशनल गेम्स का स्वर्ण पदक बास्केटबाल में हासिल किया था। इसके बाद 2007 के असम नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला टीम ने रजत पदक हासिल किया था। इस साल राज्य की टीम से स्वर्ण पदक की उम्मीद की जा रही है। इसके लिए टीम से कड़ा अभ्यास भी कराया जा रहा है। प्रदेश संघ ने संभावित टीम घोषित कर दी है। महिला टीम में 16 लड़कियां शामिल हैं। इनके लिए भिलाई  के पंत स्टेडियम में 20 जनवरी से एक फरवरी तक विशेष प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: