20 जनवरी, 2011


आल इंडिया फुटबाल का रोमांच शुरू


देश की 22 टीमें दिखाएंगी जौहर, तीन लाख के नगद पुरस्कार



रायपुर, २० जनवरी, २०११. हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन की मेजबानी में 70वीं अखिल भारतीय फुटबाल प्रतियोगिता के मुकाबलों का रोमांच गुरुवार को यहां लाखे नगर स्थित हिंद स्पोर्टिंग मैदान में शुरू हो गई। इस प्रतियोगिता में देशभर की 22 टीमें हिस्सा ले रही हैं।
प्रतियोगिता का उद्घाटन छत्तीसगढ़ राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल और महापौर किरणमयी नायक ने फुडबाल पर किक मारकर किया। इस दौरान श्री अग्रवाल ने हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन की मैदान को स्टेडियम बनाने की मांग को लेकर कहा कि इस पर सभी को मिलकर प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि शासन स्तर पर प्रमुख लोगों और नगर निगम के साथ मिलकर प्लानिंग करनी होगी। महापौर किरणमयी नायक ने कहा कि राजधानी बने एक दशक हो गया है लेकिन यहां आज भी खेल के मैदान की समस्या बनी हुई है। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश की वजह से सप्रे स्कूल के मैदान को खेल के अलावा दूसरे कार्यक्रमों के लिए नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन यदि 30 मार्च के पूर्व मैदान का स्टेडियम के रूप में शिलान्यास करना चाहता है तो यह काफी अच्छा कदम होगा। एसोसिएशन के प्रस्ताव पर हरसंभव अमल करने का प्रयास किया जाएगा। विशेष अतिथि गुरुचरण सिंह होरा ने कहा कि हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन और यह प्रतियोगिता काफी प्राचीन प्रतियोगिता है। प्रतियोगिता के साथ-साथ मैदान से भी विशेष लगाव होता है। यदि सरकार सहयोग नहीं कर रही है तो हमें सरकार पर निर्भर न रहकर आम जनता से सहयोग लेना चाहिए। इसके पूर्व हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष दुबे ने कहा कि आल इंडिया फुटबाल प्रतियोगिता से तीन-चान दिन पहले कोई नहीं कह सकता था कि यहां स्पर्धा होगी। हर साल मैदान को स्टेडियम बनाने के लिए सरकार से मांग की जाती रही है। मैदान संस्था को मिल चुका है और किसी प्रकार की दिक्कत नहीं है। बहरहाल हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष दुबे ने बताया कि इसप्रतियोतिा में एफसी पुणे, बीईजी रुडकी, बैंक आफ इंडिया मुंबई, केरल, एमईजी बेंगलूर, बंगाल पुलिस कोलकाता, डीएलडब्ल्यू वाराणसी, बीईजी ऊंटी, रब्बानी क्लब कामठी, विशाखापटनम, जेसीबी, भिलाई ब्रदर्स की टीमें हिस्सा लेंगी। श्री दुबे ने बताया कि मंहगाई की वजह से प्रतियोगिता का बजट बढ़ गया है। इस वर्ष अनुमानित व्यय 15 लाख 47 हजार रुपए है। प्रतियोगिता में कुल दो लाख  रुपए का नगद पुरस्कार रखा  गया है जो विजेता-उपविजेता और बेहतर खेल का प्रदर्शन करने वाली टीमों को दिया जाएगा
महापौर ने की खेल विभाग की खिंचाई
महापौर किरणमयी नायक ने 70वीं अखिल भारतीय हिंद स्पोर्टिंग प्रतियोगिता के उद्घाटन समारोह में खेल विभाग की जमकर खिंचाई की। उन्होंने साफ कहा कि यह राजधानी का दुर्भाग्य ही है कि एक दशक बाद भी खेल के मैदान संरक्षित नहीं  हैं। उन्होंने कहा कि जो काम खेल विभाग को करना चाहिए वह निगम कर रहा है। खेल विभाग स्वस्फूर्त होकर खेल मैदानों के संरक्षण के लिए आगे क्यों नहीं आता, यह समझ से परे है। महापौर ने कहा कि आज तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को छोड़कर खेल विभाग की और कोई  भी दूसरी उपलब्धि नहीं है। इससे अधिक खेल विभाग को कोई योगदान भी नहीं रहा है।  उन्होंने हिंद स्पोर्टिंग एसोसिएशन की मांग पर कहा कि यहां मैदान को स्टेडियम कौन बनाएगा यह तय करना जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि खेल का स्टेडियम ऐसा बनाएं जिससे खेल के समय खेल और दूसरे कार्यक्रम भी आयोजित हो सकें।
खेल में राजनीति न हो : गौरीशंकर
राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने महापौर की तरफ इशारा करते हुए कहा कि खेल में राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जहां तक उन्हें जानकारी है कि निजी मैदान पर शासन स्टेडिमय नहीं बनाती। शासन स्तर पर निगम के प्रमुख लोगों को बिठाकर प्लानिंग बनाएं और किस प्रकार की अड़चनें आ सकती हैं उसकी जिम्मेदारीं सौंपे। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य निर्माण के बाद छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के सभी विकासखंडों में स्टेडिमय का निर्माण किया है। बूढ़ापारा स्थित इनडोर स्टेडियम का निर्माण भले ही नगर निगम कर रहा हो लेकिन इसके लिए भी छत्तीसगढ़ सरकार ने ही राशि दी है।

कोई टिप्पणी नहीं: