28 जनवरी, 2011

मुफ्त में नहीं मिलेगा इनडोर



एक दिन का लगेगा सवा लाख रुपए, जिला स्तर
 पर भी प्रतियोगिता का आयोजन संभव नहीं
: प्रदेशभर के खेल जगत को बहुप्रतिक्षित इनडोर स्टेडियम के पूर्ण होने और यहां खेलों की शुरुआत करने का इंतजार था। हालांकि उनका इंतजार तीन फरवरी को खत्म हो जाएगा जब इसका उद्घाटन होगा। लेकिन खेल जगत को यह जानकर खुशी नहीं होगी कि इसका एक दिन का किराया करीब सवा लाख रुपए लिया जाएगा। ऐसे में यहां इनडोर खेलों की राज्य और राष्ट्रीय स्तर की बात तो छोड़िए  जिला स्तर पर भी प्रतियोगिताएं आयोजित नहीं की जा सकती। प्रदेश के खेल संघों को उतना अनुदान नहीं मिलता जितनी यहां एक दिन की फीस है। खिलाड़ियों को सिर्फ अ•यास के लिए स्टेडियम मुहैया कराया जाएगा।

रायपुर, २७ जनवरी, २०११.  राजधानी के बहुप्रतिक्षित इनडोर स्टेडियम का उद्घाटन 3 फरवरी को किया जा रहा है। 25 करोड़ की लागत वाले इस स्टेडियम के उद्घाटन समारोह की तैयारियों को लेकर निगम आयुक्त ओपी चौधरी ने गुरुवार को इनडोर का निरीक्षण किया। इस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि स्टेडिमय का उद्घाटन मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह करेंगे। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि स्टेडियम में एक दिन के आयोजन का करीब सवा लाख रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। फीस लिए बिना स्टेडियम देना संभव नहीं होगा क्योंकि यहां एसी सहित कई और भी सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। हालांकि खिलाड़ियों को अभयास के लिए स्टेडियम दिया जाएगा लेकिन एसी चालू नहीं रहेगी। सवा लाख रुपए की फीस खेल जगत के गले नहीं उतर रही है क्योंकि ऐसी स्थिति में यहां जिला स्तर पर भी प्रतियोगिताओं का आयोजन नहीं किया जा सकता। जिला स्तर पर ही जिला खेल सघों को खेल विभाग सिर्फ 10 हजार रुपए का बजट देता है। राज्य स्तर पर 50 हजार रुपए और राष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा के लिए एक लाख रुपए का बजट निर्धारित है। खेल संघों के लिए यहां आयोजन कराना सं•ाव नहीं हो सकेगा। मौजूदा समय में खेल विभाग की संयुक्त मेजबानी में राज्य स्तरीय खेल स्पर्धाओं का आयोजन होता है और विभाग करीब पांच से छह लाख रुपए खर्च करता है। इसमें टीमों का यात्रा व्यय, भोजन व्यय, अवास, किराया भडार सहित पूरा व्यय शामिल रहता है और ये स्पर्धाएं चार से पांच दिनों तक चलती हैं। यदि इन्हीं स्पर्धाओं को इनडोर में कराया जाएगा तो पूरा बजट ही किराए में चला जाएगा। खिलाड़ियों को भूखे रहना पड़ेगा और रहने के लिए राजधानी की सड़कें होंगी। हाल ही में अखिल भारतीय हिंद चैंपियन फुटबाल प्रतियोगिता के उद्घाटन समरोह के दौरान महापौर किरणमयी नायक ने भी पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा था कि बताया था कि इनडोर का करीब सवा लाख रुपए प्रतिदिन का किराया निर्धारित किया जाएगा जिससे स्टेडियम का मेंटेनेंस किया जाएगा। बहरहाल 3 फरवरी को होने वाले उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह होंगे। अध्यक्षता विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष रविंद्र चौबे करेंगे। विशेष अतिथि लोक निर्माण मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, नगरीय प्रशासन मंत्री राजेश मूणत, महापौर किरणमयी नायक होंगी। उद्घाटन समारोह के पूर्व युवाओं के बीच तीन दिवसीय डांय प्रतियोगिता का आयोजन शहीद स्मारक में 30 जनवरी से 1 फरवरी तक किया जाएगा।
15 साल पहले शुरू हुआ था काम
इनडोर स्टेडियम के लिए पूर्व महापौर स्वर्गीय बलबीर जुनेजा के कार्यकाल में 30 सितंबर 1996 को 6 करोड़ 84 लाख 20706 रुपए का संकल्प पारित हुआ था। इसके बाद वर्ष 2006 में 2162 लाख रुपए की स्वीकृति नगरीय प्रशासन वि•ााग द्वारा दी गई थी। इस स्टेडियम का पूर्व में अनुबंध 11 जून 1996 को ठेकेदार पीडी अग्रवाल से किया गया था। इनडोर स्टेडियम का काम 31 मार्च 1998 से 2000 तक रुक-रुक कर चलता रहा। दिसंबर 2003 से काम बंद हो गया था। जुलाई-अगस्त 2008 में फिर से काम शुरू हुआ। वर्तमान में इनडोर स्टेडियम में पार लाइटिंग फ्लोरिंग एंड इंस्टालेशन का काम अंतिम चरण पर है।

एक नजर
0. कुल लागत : 21. 5 करोड़ रुपए
0. निर्माण कार्य की स्वीकृति : 3 करोड़, वर्ष 2005-06, 7.29 करोड़, मार्च 2009, कुल राशि : 10.29 करोड़
0. अब तक निर्माण कार्य : 21.50 करोड़
0. निर्माण के लिए : 17.5 करोड़
0. एयर कडिंशनिंग के लिए : 2.281 करोड़
0. सब स्टेशन के लिए : 0.84 करोड़
0. चिलर प्लांट के लिए 0.1682 करोड़
0. एरिना लाइटिंग के लिए : 0.38 करोड़
0. साइड डेवलपमेंट के लिए : 0.40 करोड़
सुविधाएं : पूरी तरह वातानुकुलित
दर्शक क्षमता : 5000
ये होंगे खेल : बैडमिंटन, वालीबाल, बास्केटबाल, टेबल टेनिस सहित  सभी तरह के इनडोर खेल।

कोई टिप्पणी नहीं: