21 फ़रवरी, 2011

छत्तीसगढ़ को शूटिंग में हैट्रिक पदक



   
बास्केटबाल में भी पदक तय, हैंडबाल में विजयी शुरुआत
34वें नेशनल गेम्स में कराते का पहला स्वर्ण पदक मिलने के बाद सोमवार को छत्तीसगढ़ ने शूटिंग में तीन पदक हासिल कर अपने पदकों की संख्या चार कर ली। छत्तीसगढ़ ने महिला बास्केटबाल में भी अपनी उम्मीदों के अनुरूप प्रदर्शन कर फाइनल में जगह बना ली। दूसरी तरफ हैंडबाल की महिला टीम ने भी अपना विजय अभियान शुरू कर दिया। छत्तीसगढ़ से झारखंड नेशनल गेम्स में पिछले छह पदकों के रिकार्ड के टूटने की पूरी उम्मीद है। राज्य की इस उपलब्धि पर छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सहित खेल मंत्री लता उसेंडी, खेल सचिव सुब्रत साहू, खेल संचालक जीपी सिंह और सांसद नवीन जिंदल सहित खेल जगत की कई हस्तियों ने हर्ष व्यक्त किया है
रायपुर। छत्तीसगढ़ को सबसे पहला स्वर्ण पदक कराते में मिला था। इसके बाद छत्तीसगढ़ का खाता नहीं खुला था। लेकिन सोमवार को एक साथ शूटिंग में तीन पदक मिलने से प्रदेश के खेल जगत में हर्ष की लहर दौड़ गई। छत्तीसगढ़ से शूटिंग में पदक की काफी उम्मीदें की जा रही थीं। पिछले नेशनल गेम्स में भी छत्तीसगढ़ को शूटिंग मेंं पदक मिला था। इस समय झारखंड में मौजूद छत्तीसगढ़ ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने नेशनल लुक को बताया कि राज्य को टीम इवेंट में दो स्वर्ण पदक और व्यक्तिगत इवेंट में एक कांस्य पदक मिला। कप्तान पीपी सिंग ने व्यक्तिगत स्कीट में स्वर्ण पदक हासिल किया। पीपी सिंग ने 150 में से सर्वाधिक 143 अंक बनाए और स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। इसी इवेंट में बाबा पीएस बेदी ने 150 में से 140 अंकों के साथ कांस्य पदक हासिल किया जबकि सर्विसेस के एडी पिनाल ने रजत पदक हासिल किया। टीम इवेंट में छत्तीसगढ़ के पीपी सिंग, बाबा पीएस बेदी और मिराज अहमद खान ने राज्य का प्रतिनिधित्व किया और  टीम इवेंट में भी छत्तीसगढ़ ने स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। छत्तीसगढ़ ने 375 में से 353 अंक हासिल कर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। छत्तीसगढ़ की टीम के सभी खिलाड़ी जिंदल स्टील रायगढ में कार्यरत हैं। टीम के कोच दुर्गेश वशिष्ठ और दुर्गेश गुप्ता हैं। दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ ने सोमवार को ही महिसा बास्केटबाल में भी पदक तय कर लिया। छत्तीसगढ़ ने दिल्ली को 80-63 अंक से हराकर फाइनल में प्रवेश कर लिया। महिला बास्केटबाल में पिछले साल छत्तीसगढ़ ने रजत पदक हासिल किया था और इस साल टीम से स्वर्ण पदक की उम्मीद की जा रही है। झारखंड नेशनल गेम्स में अब तक छत्तीसगढ़ के कुल चार पदक हो गए हैं। छत्तीसगढ़ से हैंडबाल में भी पदक की उम्मीद है। हैंडबाल की महिला टीम ने सोमवार को लीग मैच में मणिपुर को 44-28 अंक से पराजित कर अपना विजय अभियान शुरू किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: