16 मार्च, 2011

प्रशिक्षकों को मिला प्लेटफार्म




खेल विभा ग ने वर्कशाप में सुनी समस्याएं 
                      और दिलाया प्रगति का भरोसा



रायपुर। प्रदेशभर के विभिन्न खेलों के एनआईएस प्रशिक्षकों को खेल संचालनालय ने नया प्लेटफार्म दिया। प्रदेश के खेल जगत के इतिहास में पहली बार करीब 40 एनआईएस प्रशिक्षकों के लिए खेल भवन में वर्कशाप आयोजित की गई। इस वर्कशाप में प्रशिक्षकों ने अपनी-अपनी समस्याएं रखीं और खेलों व खिलाड़ियों के विकास के लिए कई सुझाव दिए।
खेल संचालक जीपी सिंह की अध्यक्षता में आयोजित इस वर्कशाप में प्रशिक्षकों ने खेल सुविधाओं की कमी पर ज्यादा जोर दिया। खासतौर पर खेल मैदानों के अभाव की बातें प्रमुखता से उठीं। इस वर्कशाप में प्रशिक्षकों को यह भी कहा गया कि खेल विभाग ने वि•िान्न खेलों के प्रशिक्षकों के लिए नियुक्ति निकाली है और वे आवेदन दे सकते हैं। ऐसा पहली बार हुआ जब प्रशिक्षकों को नौकरी के लिए आमंत्रित किया जा रहा है। वर्कशाप में कई मुद्दे उठाए गए और कई सुझाव भी दिए गए। स्वयं प्रशिक्षकों को भी ट्रेनिंग देने की बात प्रमुखता से उठी। कई प्रशिक्षक सबजूनियर वर्ग में जूनियर खिलाड़ियों को और जूनियर वर्ग में सीनियर खिलाड़ियों को राष्ट्रीय स्पर्धाओं में पदक हासिल करने के लिए टीम में शमिल करते  हैं। ऐसे में जो वास्तव में खेल के हकदार हैं वे पीछे रह जाते हैं। कई प्रशिक्षकों ने मैदान की कमी तो मैदान में चेजिंग रूम की कमी का मामला उठाया। इस वर्कशाप में हिस्सा लेने वाले सभी प्रशिक्षकों और प्रशिक्षण कार्य में सहयोग करने वाले विशेषज्ञों से फार्म भी भरवाया गया। इस फार्म में बायोडाटा के अलावा स्थान विशेष में प्रशिक्षण की सुविधाओं की जानकारी मांगी गई तथा सुझाव लिए गए। खेल संचालक जीपी सिंह के मुताबिक इन सुझावों की समीक्षा की जाएगी और प्रशिक्षकों की समस्याओं का समाधान  किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: