17 जनवरी, 2011





कर्नाटक को तवज्जो न मिलने से कुंबले नाराज
पांच वर्ल्ड कप में पहली बार नहीं मिली किसी खिलाड़ी को जगह
रायपुर, १७ जनवरी, २०११. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और कर्नाटक क्रिकेट संघ के अध्यक्ष जम्बो अनिल कुंबले ने वर्ल्ड कप के लिए घोषित की गई भारतीय क्रिकेट टीम को संतुलित टीम बताया है लेकिन इस बात का अफसोस भी जताया है कि कर्नाटक के किसी खिलाड़ी को जगह नहीं दी गई है। अनिल कुंबले ने यहां छत्तीसगढ़ दौरे में कहा कि पिछले पांच वर्ल्ड कप में ऐसा पहली बार हुआ है जब कर्नाटक के किसी खिलाड़ी को जगह नहीं मिली है। इसका उन्हें अफसोस है और वे हैरान  हैं।
अनिल कुंबले यहां सोमवार को मुख्यमंत्री निवास में छत्तीसगढ़ टेनिस संघ की अधिकृत वेबसाइट के उद्घाटन समारोह में विशेष अतिथि के तौर पर आमंत्रित थे। उन्होंने परसदा स्थित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का अवलोकन  किया। इस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने वर्ल्ड कप के लिए घोषित टीम को लेकर कहा कि भारत वर्ल्ड कप जीतेगी। हालांकि वर्ल्ड कप की टीम में कर्नाटक के किसी खिलाड़ी को शामिल न करने को लेकर उनके चेहरे पर नाराजगी साफ झलक रही थी। इस सवाल पर उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्ल्ढ कप में ऐसा पहली बार हुआ है और उनके लिए यह हैरानी की  बात है। अनिल कुंबले कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष भी हैं। सुबह सीएम हाउस में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा था कि वर्ल्ड कप की टीम में ज्यादातर खिलाड़ी दक्षिण-अफ्रीका दौरे के होंगे। उन्होंने रोहित शर्मा और मुरली को लेकर भी कहा था कि उनका चयन हो सकता है। बाद में उन्होंने कहा कि उन्होंने वर्ल्ड कप के लिए जिन 20 खिलाड़ियों के बारे में सोचा था उनमें से 15 खिलाड़ी चयनित हो गए हैं। वर्ल्ड कप की टीम में एक ही विकेटकीपर बल्लेबाज को लेकर उन्होंने कहा कि इससे मुश्किल हो सकती है। एन टाइम पर इंज्यूरी हो जाए तो दूसरा खिलाड़ी नहीं मिलता।


कुंबले को भी भा गया स्टेडियम
कहा, छत्तीसगढ़ में भी होने चाहिए अंतरराष्ट्रीय मैच


रायपुर, १7 जनवरी, २०११. राज्य निर्माण के बाद पिछले करीब पांच सालों में क्रिकेट की कई जानी-मानी हस्तियों ने छत्तीसगढ़ का दौरा किया है और सभी ने परसदा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की तारीफ की है। क्रिकेट स्टेडियम अनिल कुंबले को भी भा गया और उन्होंने कहा कि यह काफी अच्छा स्टेडियम है। यहां अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रतियोगिताएं हो सकती हैं और छत्तीसगढ़ को मेजबानी भी मिलनी चाहिए।
कुंबले के पहले हाल ही में टीम इंडिया के पूर्व कप्तान कपिल देव ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की तारीफों के पूल बांधे थे।
कुंबले ने यहां सोमवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का  दौरा किया। उन्होंने इसे काफी बेहतरीन बताया और कहा कि छत्तीसगढ़ में  अंतरराष्ट्रीय मैच होने चाहिए। इससे यहां के खिलाड़ियों को काफी लाभ होगा और उन्हें आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। इस दौरान कुंबले से अंडर-19 एसोसिएट ट्राफी क्रिकेट प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आईं अरुणाचल और सिक्किम के खिलाड़ियों ने भी मुलाकात की। कुंबले ने यहां पत्रकारों के सवालों का जवाब काफी सहजता के साथ दिया। उनसे जब पूछा गया कि 1990 के दौर में छत्तीसगढ़ के राजेश चौहान, वेंकटपति राजू और स्वयं उनकी स्पीन तिकड़ी हुआ करती थी तो उन्होंने कहा कि सभी का अपना-अपना दौर होता है। वर्ल्ड कप की टीम में भी स्पीनरों की तिकड़ी है जो काफी काम आएगी। कर्नाटक के खिलाड़ियों को टीम में शामिल न करने की नाराजगी उनके चेहरे पर साफ झलक रही थी। उन्होंने यह नहीं बताया कि कर्नाटक या बेंगलूर के किस खिलाड़ी को टीम में लिया जाना चाहिए और किस खिलाड़ी के टीम में चुने जाने की उन्हें उम्मीद थी। कुंबले ने छत्तीसगढ़ दौरे को लेकर प्रसन्नता व्यक्त की और  कहा कि जब भी उन्हें यहां बुलाया जाएगा वे आएंगे।  इस दौरान प्रदेश टेनिस संघ के अध्यक्ष विक्रम सिसोदिया, सचिव गुरुचरण सिंह होरा, राज्य क्रिकेट संघ के सचिव राजेश दवे सहित क्रिकेट और टेनिस जगत की कई हस्तियां मौजूद थीं।

टेनिस संघ की वेबसाइट लोकार्पित


राजधानी में टेनिस एकेडमी के लिए जमीन शीघ्र : रमन सिंह
रायपुर, १७ जवनरी, २०११. छत्तीसगढ़ टेनिस संघ की अधिकृत वेबसाइट का मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने महान क्रिकेटर अनिल कुंबले की मौजूदगी में लोकापर्ण किया। इस दौरान उन्होंने राजधानी में टेनिस एकेडमी के लिए शीघ्र ही जमीन उपलब्ध कराने की बात कही। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में टेनिस के खेल को और भी ज्यादा लोकप्रिय बनाने और टेनिस खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार की ओर से हर संभव सहयोग दिया जाएगा।
डॉ. सिंह ने आज सुबह यहां अपने निवास पर माउस क्लिक कर इस वेबसाईट का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि खेल प्रेमियों के चहेते क्रिकेटर अनिल कुंबले छत्तीसगढ़ में हैं जो काफी खुशी की बात है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की पहचान देश में बने और नई पीढ़ि को आगे बढ़ने का मौका मिले, इसके लिए टेनिस संघ को शासन से हरसं•ाव सहयोग दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि  छत्तीसगढ़ में टेनिस को आगे बढ़ाने के लिए एकेडमी के लिए जल्द से जल्द जमीन दी जाएगी। डा. सिंह ने कहा कि कुंबले को फारेस्ट व वाइल्ड लाइफ  काफी पसंद है और पूरे देश में छत्तीसगढ़ के बस्तर व सरगुजा में बेहतरीन जंगल हैं।  इस अवसर पर प्रसिद्ध टेस्ट क्रिकेट खिलाड़ी और कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल कुंबले विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। उन्होंने  वेबसाईट की सफलता और छत्तीसगढ़ में क्रिकेट सहित टेनिस के खेल के विकास के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए इसके लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी। कुंबले ने कहा कि वेबसाइट से छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों की प्रतिभाएं पूरे विश्व में जानी जा सकेंगी और इससे खिलाड़ियों को आगे बढ़ने का भी मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि राष्ट्रीय टीम में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी खेलेंगे और वेबसाइट उनके लिए मार्गदर्शक बनेगी। कुंबले ने यह भी कहा कि वे पहली बार छत्तीसगढ़ आए हैं और उन्हें यहां के बारे में काफी-कुछ जानकारी है। उन्होंने कहा कि सरकार के सहयोग से ही खेलों का विकास होता है और यहां सरकार खेलों को आगे बढ़ाने में कोई कमी नहीं कर रही है। छत्तीसगढ़ राज्य टेनिस एसोसिएशन के अध्यक्ष विक्रम सिसोदिया ने स्वागत भाषण देते हुए कहा कि क्रिकेट में अनिल कुंबले एक स्थापित नाम है। उन्होंने कुंबले के कई ऐतिहासिक योगदान की जानकारी दी। श्री सिसोदिया ने बताया कि छत्तीसगढ़ की सिविल सर्विसेस टेनिस टीम ने हाल ही में आल इंडिया सिविल सेवा प्रतियोगिता में काफी अच्छे खेल का प्रदर्शन किया  है। उन्होंने यह भी कहा कि यदि टेनिस के खिलाड़ियों को शासकीय सेवा में तवज्जो  दी जा सके तो राज्य की सिविल सर्विसेस की टीम चैंपियन बन सकती है। श्री सिसोदिया ने बताया कि राजधानी में टेनिस एकेडमी के लिए एक-दो स्थानों में जमीन चिन्हित की गई है। आ•ाार प्रदर्शन करते हुए प्रदेश टेनिस संघ के सचिव गुरुचरण सिंह होरा ने कहा कि मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने जब से छत्तीसगढ़ ओंलपिक संघ का अध्यक्ष पद स्वीकार किया है तब से छत्तीसगढ़ कई खेलों में राष्ट्रीय स्तर पर पदक  हासिल कर  रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि विक्रम सिसोदिया के प्रदेश टेनिस संघ का अध्यक्ष बनने के बाद से प्रदेश में टेनिस का काफी विकास हुआ है। इस  संक्षिप्त समारोह में अनिल कुंबले को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस दौरान लारेंस सेंटियागो, रूपेंद्र सिंह चौहान, राजेश पाटिल, चर्तुभूज अग्रवाल, वेबसाइट निर्माता स्वामीनाथन सहित टेनिस व क्रिकेट के कई खिलाड़ियों ने कुंबले का सम्मान किया।

वेबसाइट में कई महत्वपूर्ण जानकारियां
छत्तीसगढ़ टेनिस संघ की अधिकृत वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डाट सीजीटेनिस डाट काम में कई महत्वपूर्ण जानकारियां शामिल की गई हैं। साइट में राज्य के टेनिस का इतिहास, टेनिस संघ की गतिविधियां, छत्तीसगढ़ की उपलब्धियां और नए खिलाड़ियों की जानकारियों के अलावा कपिल देव के दौरे व कई पुराने छायाचित्रों को डाला गया है। साइट में टेनस के टूर्नामेंट के बारे में  समय-समय पर अपडेट जानकारियां दी जाएंगी। यह साइट आइटा से भी संबंधित है।

कुंबले ने किया बारनवापारा का दौरा
टेस्ट क्रिकेट के प्रसिद्ध खिलाड़ी अनिल कुंबले ने छत्तीसगढ़ दौरे में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के साथ-साथ बारनवापारा का भी दौरा किया। कुंबले को फारेस्ट और वाइल्ड लाइफ  बेहद पसंद है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के दौरे के बाद वे बारनवापारा के लिए रवाना हो गए। मुख्यमंत्री निवास में डा. सिंह ने कहा था कि अनिल कुंबले के साथ चर्चा के दौरान यह पता लगा कि उन्हें फारेस्ट की सैर काफी पसंद है।

एक दशक में पहली बार टेटे को इंट्री


झारखंड नेशनल गेम्स में पुरुष खिलाड़ियों से है 
बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद
रायपुर, १६ जनवरी, २०११.  राज्य निर्माण के इन दस सालों में पहली बार छत्तीसगढ़ की टेबल टेनिस की इंट्री नेशनल गेम्स में हुई है। टेबल टेनिस जैसे खेल में नेशनल गेम्स में पात्रता  हासिल करना काफी कठिन होता है और छत्तीसगढ़ की टीम इस समय सातवें स्थान पर है और मेजबान झारखंड आठवीं टीम है।
सीनियर नेशनल में अंतिम आठ पहुंचने वाली टीमों को नेशनल गेम्स में खेलने की पात्रता दी जाती है। रैंकिंग वाले खेल टेबल टेनिस में नेशनल गेम्स के लिए पात्रता हासिल करना काफी कठिन होता है। हालांकि छत्तीसगढ़ के खिलाड़ी हर साल सीनियर नेशनल में हरसं•ाव प्रयास करते रहे हैं। लेकिन सफलता सालों बाद मिली। पिछले साल पटना सीनियर नेशनल में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने काफी अच्छे खेल  का प्रदर्शन किया था। छत्तीसगढ़ टेबल टेनिस एसोसिएशन के सचिव अमिता•ा शुक्ला ने बताया कि छत्तीसगढ़ की टीम ने सीनियर नेशनल में दसवां स्थान हासिल किया था। सीनियर नेशनल में देना बैंक की टीम के अलावा महाराष्ट्र और  पश्चिम बंगाल की दो टीमें हिस्सा लेती हैं। लेकिन नेशनल गेम्स में ये टीमें कट जाती हैं और इसका पूरा फायदा छत्तीसगढ़ को मिला। छत्तीसगढ़ को सातवां स्थान मिल गया जिससे पात्रता मिल गई। श्री शुक्ला ने बताया कि फिलहाल राज्य की सीनियर टीमें कोलकाता में खेली जा रही 72वीं सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में हिस्सा ले रही हैं। वहां से पुरुष टीम लौटने के बाद नेशनल गेम्स की तैयारियों में जुट जाएगी। नेशनल गेम्स के पात्र पुरुष टीम के खिलाड़ियों में विनय बैसवाड़े, विजय बैसवाड़े रायपुर, अंशुमन राय रायपुर, सागर घाटगे रायपुर और ए संतोष दुर्ग शामिल हैं। श्री शुक्ला ने बताया कि टेबल टेनिस में खिलाड़ियों को उच्च प्रशिक्षण देने पिछले साल पूर्व नेशनल चैंपियन कमलेश मेहता को आमंत्रित करने की योजना थी लेकिन किसी कारणवश श्री मेहता को आमंत्रित नहीं किया जा सका। लेकिन इस साल इस विशेष प्रशिक्षण आयोजित किया जाएगा और इसके लिए श्री मेहता से कोलकाता में ही चर्चा की जाएगी। उन्होंने बताया कि नेशनल गेम्स में पहली बार हिस्सा लेना काफी अहम है और इसके लिए खिलाड़ियों को कड़ा अ•यास कराया जाएगा।

आरचरी पर टिकी रहेंगी नजरें


बिलासपुर रेलवे के खिलाड़ियों से मिल सकता  है 
छत्तीसगढ़ को झारखंड नेशनल गेम्स का पदक

 झारखंड के 34वें नेशनल गेम्स में इस बार नजरें टिकी रहेंगी आरचरी पर। दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर के खिलाड़ियों के छत्तीसगढ़ से खेलने का पूरा फायदा मिलने की उम्मीद है। हालांकि इसके पहले खिलाड़ियों को पात्रता हासिल करनी होगी और इसके लिए खिलाड़ियों में काफी आत्मविश्वास भी है।
छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने पिछले साल गोवाहाटी के 33वें नेशनल गेम्स में भी हिस्सा लिया था। इनमें राधा बाई  शामिल थीं। हालांकि तीरंदाजों ने कोई खास प्रदर्शन नहीं किया था। झारखंड में होने वाले 34वें नेशनल गेम्स के लिए छत्तीसगढ़ की चार महिला खिलाड़ियों ने पात्रता हासिल कर ली है। दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर जोन के खिलाड़ी भी छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व करने वाले हैं। इसके पूर्व ये खिलाड़ी अगले माह 5 से 10 फरवरी तक विजयवाड़ा में आयोजित होने वाली सीनियर नेशनल आरचरी चैंपियनशिप में हिस्सा लेंगे। इस चैंपियनिशिप में इन खिलाड़ियों से पदक की उम्मीद की जा रही है क्योंकि ये खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मेडलिस्ट खिलाड़ी हैं। इनमें रुशाली गोरले, साकरो बेसरा, मंजूधा, शिवनाथ नगेशिया, वी प्रणीता और विकास सहरावत शामिल हैं। हाल ही में दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे आरचरी प्रतियोगिता में इन खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था। साकरो बेसरा और मंजूधा मूलत: झारखंड की हैं और इन खिलड़ियों ने भारतीय टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक  हासिल किया है। साकरो ने झारखंड के लिए 2007 में गोवाहाटी नेशनल गेम्स में हिस्सा लिया था और वे चौथे स्थान पर रहीं थीं। विकास ने गोवाहाटी नेशनल गेम्स में रजत पदक हासिल किया था। शिवनाथ नागेशिया ने 2002 में हैदराबाद के नेशनल गेम्स में चैंपियन थे तो रुशाली ने 33वें नेशनल गेम्स में महाराष्ट्र का प्रतिनिधित्व किया था। मंजूधा ने 33वें नेशनल गेम्स में स्वर्ण पदक हासिल किया था।

थांग ता में छत्तीसगढ़ को छह पदक
फेडेरेशन कप में दिखाया बेहतर प्रदर्शन
रायपुर, 16 जनवरी. २०११. थांग ता फेडरेशन आफ इंडिया की मेजबानी में राजीव गांधी स्टेडियम दिल्ली में खेली गई थांग ता फेडरेशन कप 2011 में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने बेहतर खेल का प्रदर्शन कर छह पदक हासिल किए। महिला और पुरुष दोनों वर्ग के खिलाड़ियों ने राज्य के लिए पदक हासिल किया।
छत्तीसगढ़ प्रदेश थांग ता संघ के सचिव गोविंद रावत ने बताया कि फेडरेशन कप में देश के 21 राज्यों की टीमों ने हिस्सा लिया था। इसमें ओवरआल चैंपियनशिप का खिताब मणिपुर को दिया गया। दूसरे स्थान पर हरियाणा की टीम रही। छत्तीसगढ़ ने 15 सदस्यीय दल के साथ हिस्सा लिया था। टीम ने तीन रजत और तीन कांस्य पदक हासिल किए। सीनियर पुरुष वर्ग में हेमंत ध्रुव ने 52 किलोग्राम वजन वर्ग में रजत पदक, शिवचरण साहू ने 60 किग्रा में रजत पदक, सिद्धार्थ मिश्रा ने 75 किग्रा में कांस्य पदक, बादल  कुमार ने 80 किग्रा में कांस्य पदक हासिल किया। जूनियर बालक वर्ग में  मनीष साहू ने 52 किग्रा में कांस्य पदक और बालिका वर्ग में ममता पाणिग्रही ने 44 किलोग्राम में रजत पदक  हासिल   किया। टीम के कोच राजकुमार देवांदन दुर्ग और प्रबंधक विमल हलदार बिलासपुर थे। टीम के बेहतर प्रदर्शन पर छत्तीसगढ़ प्रदेश थांग ता संघ के अध्यक्ष कैलाश मुरारका, उपाध्यक्ष प्रकाश ठाकुर, संजय अग्रवाल, तापस बोस सहित कई पदाधिकारियों और खिलाड़ियों ने हर्ष व्यक्त किया है।



  नेशनल गेम्स के लिए कसी कमर
 चयन ट्रायल 19 को, बास्केटबाल की दोनों टीमें हिस्सा लेंगी झारखंड में
रायपुर, १६ जनवरी. २०११  झारखंड में अगले माह 12 फरवरी से 26 फरवरी तक आयोजित 34वें नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला और पुरुष दोनों बास्केटबाल टीमें हिस्सा ले रही हैं। दोनों टीमों ने नेशनल गेम्स के लिए पात्रता हासिल की है। इन टीमों का चयन करने 19 जनवरी को चयन ट्रायल का आयोजन किया गया है।
छत्तीसगढ़ बास्केटबाल संघ के सचिव और अंतरराष्ट्रीय कोच राजेश पटेल ने बताया कि चयन ट्रायल 19 जनवरी को भिलाई के पंत स्टेडियम में आयोजित किया गया है। चयन ट्रायल सुबह और शाम दो सत्रों में आयोजित होगा। पहले चरण में सुबह 7 बजे से 10 बजे तक और दूसरे चरण में शाम 4 से 6 बजे तक चयन ट्रायल का आयोजन होगा। श्री पटेल ने बताया कि इस चयन ट्रायल के संबंध में प्रदेश के सभी  जिलों, नगर निगम और इकाइयों को जानकारी दी जा रही है। प्रत्येक जिले, नगर निगम और इकाई से अधिक से अधिक दो खिलाड़ियों को आमंत्रित किया गया है। ट्रायल में बेहतर प्रदर्शन के आधार पर खिलाड़ियों का चयन राज्य की संभावित महिला और पुरुष टीमों में किया जाएगा। चयन ट्रायल के अगले दिन 20 जनवरी से छत्तीसगढ़ की दोनों टीमों के लिए विशेष प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया है। यह शिविर 10 फरवरी तक चलेगा। शिविर में खिलाड़ियों को तकनीकी बारीकी से अवगत कराया जाएगा और कई महत्वपूर्ण जानकारियां  प्रदान की जाएंगी जिससे राज्य की टीमें नेशनल गेम्स में बेहतर प्रदर्शन कर सके। राज्य की संभावित टीमों के लिए चयनित होने वाले खिलाड़ियों के लिए आवास की व्यवस्था भिलाई  में ही की गई है। पिछले नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ की महिला टीम ने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया था और पदक हासिल किया था। इस साल भी टीमों से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है।
रेलवे को आल इंडिया का गोल्ड मेडल
दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर की महिला बास्केटबाल टीम ने पांडीचेरी के यमन में खेली गई पहली आल इंडिया प्राइजमनी आमंत्रण  बास्केटबाल प्रतियोगिता का खिताब जीत लिया। इस जीत के साथ टीम को एक लाख रुपए का नगद पुरस्कार दिया गया। रेलवे की बास्केटबा की टीम में स•ाी खिलाड़ी छत्तीसगढ़ के हैं। बास्केटबाल के अंतरराष्ट्रीय कोच राजेश पटेल ने बताया कि फाइनल मुकाबला दक्षिण-पूर्व मध्य रेलव बिलासपुर  और दक्षिण रेलवे चेन्नई के बीच खेला गया जो काफी रोमांचक और संघर्षपूर्ण रहा। बिलासपुर ने 77-76 अंक से जीत हासिल की। मात्र एक अंक से मिली इस जीत से खिलाड़ी खुशी से  झूम उठे। इस मैच के पहले हाफ में बिलासपुर 18-19 से पीछे थी। दूसरे हाफ में दोनों टीमें 38-38 के स्कोर पर बराबरी पर थीं। तीसरे क्वार्टर में स्कोर 58-56 था। अंतिम क्वार्टर में बिलासपुर ने 77-76 से जीत हासिल की। टीम की अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी एम पुष्पा ने सर्वाधिक 26, अंजु लकड़ा ने 18, सीमा सिंह ने 16, आकांक्षा सिंह ने 8 और अरुणा किंडो ने 4 अंक बनाए। रेलवे बिलासपुर की टीम को एक लाख रुपए का नगद पुरस्कार दिया गया और सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का खिताब एम पुष्पा को दिया गया। इसके पहले बिलासपुर रेलवे की टीम ने महाराष्ट्र को 86-85 से, दक्षिण रेलवे सिकंदराबाद को 112-56 से, पांडीचेरी को 89-42 से पराजित किया था।
बीएसपी को आल इंडिया में तीसरा स्थान
केरल के कोट्टायम में खेली गई आल इंडिया जेसीआई प्राइजमनी आमंत्रण बास्केटबाल प्रतियोगिता में •िालाई इस्पात संयंत्र (बीएसपी) की महिला टीम ने तीसरा और पुरुष टीम ने पांचवा स्थान हासिल किया। बीएसपी के अंतरराष्ट्रीय कोच राजेश  पटेल ने केरल से दूर•ााष पर बताया कि सेमीफाइनल में बीएसपी को कड़े संघर्ष में तमिलनाडु से 91-90 से पराजय का सामना करना पड़ा। तीसरे और चौथे स्थान के लिए केरल इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के साथ खेले गए मैच में बीएसपी ने 52-50 से जीत हासिल कर ली। टीम की कप्तान कविता ने 14, एल दीपा ने 11, जेलना जोंस ने 10, संगीता मंडल ने 6, शरणजीत कौर ने 8 व संगीता कौर ने 4 अंक बनाए। तीसरे स्थान के लिए बीएसपी की टीम को 10 हजार रुपए का नगद पुरस्कार दिया गया।