22 फ़रवरी, 2011

छत्तीसगढ़ को बास्केटबाल में रजत पदक


फाइनल में तमिलनाडु से मिली पराजय, असम 
नेशनल गेम्स का दोहराया इतिहास
 झारखंड के 34वें राष्ट्रीय खेलों में छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने पदक तो हासिल किया लेकिन उसकी स्वर्ण हासिल करने की मंशा पर एक बार फिर से पानी फिर गया। खिताब की दावेदार तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को 31 अंकों के अंतर से पराजित कर स्वर्ण पदक हासिल कर लिया। छत्तीसगढ़ को रजत पदक पर संतोष करना पड़ा। इसके पहले असम के 33वें राष्ट्रीय खेलों में भी तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को हराकर स्वर्ण पदक हासिल किया था। छत्तीसगढ़ को अब तक राष्ट्रीय खेलों में पांच पदक मिल चुके हैं।
रायपुर। 34वें राष्ट्रीय खेलों के फाइनल में पहुंची छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम की भिडंत खिताब की दावेदार तमिलनाडु के साथ हुई जिसमें दक्षिण रेलवे के खिलाड़ी शामिल थे। छत्तीसगढ़ की टीम ने हालांकि फाइनल में काफी बेहतर खेल का प्रदर्शन दिखाया लेकिन उसकी जीत हासिल करने की मंशा धरी रह गई। हालांकि टीम ने रजत पदक हासिल कर राज्य के खाते में पांचवा पदक जरूर डाला है। फाइनल में छत्तीसगढ़ को 79-48 अंकों से पराजय का सामना करना पड़ा। छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों ने शुरुआती क्वार्टर में हालांकि काफी अच्छे खेल का प्रदर्शन किया लेकिन इसके बाद टीम बिखरी नजर आई और आपसी तालमेल की भी कमी देखने को मिली। हालांकि टीम के अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने पूरी ताकत लगा दी थी स्वर्ण पदक के लिए लेकिन रेलवे के आगे खिलाड़ी बौने साबित हुए। छत्तीसगढ़ की झोली में अब पांच पदक हो गए हैं। छत्तीसगढ़ को पहला पदक कराते में अंबर सिंह भारद्वाज ने दिलाया था। इसके बाद 21 फरवरी को निशानेबाजी में तीन पदक मिले। पांचवा पदक छत्तीसगढ़ को महिला बास्केटबाल टीम ने दिलाया। पिछले नेशनल गेम्स में छत्तीसगढ़ को कुल छह पदक मिले थे जिसमें तीन स्वर्ण और तीन रजत पदक शामिल थे। छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने कर्नाटक को पहले लीग मैच मे पराजित किया था। दूसरे मैच में पंजाब को हराकर छत्तीसगढ़ सेमीफाइनल में पहुंची थी। सेमीफाइनल में छत्तीसगढ़ ने दिल्ली को हराकर फाइनल में प्रवेश किया था। छत्तीसगढ़ ने हैदराबाद में 2002 के ने्शनल गेम्स में पहली बार स्वर्ण पदक हासिल किया था। राज्य निर्माण के एक दशक में छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम ने रिकार्ड तीसरी बार फाइनल में प्रवेश किया है। अब तक नेशनल गेम्स के दो रजत और एक स्वर्ण पदक मिल चुके हैं।
टीम -कप्तान अंजु लकड़ा, सीमा सिंह, भारती नेताम, पुष्पा, अकांक्षा सिंह, अरुणा किंडो, एल दीपा, शोषण तिर्की (सभी दपूम रेलवे बिलासपुर), कविता, जेलना जोश (बीएसपी), पूजा देशमुख (रायपुर), निकिता गोदामकर (राजनांदगांव), मुख्य कोच राजेश पटेल, सहायक कोच इकबाल अहमद खान, प्रबंधक साजी टी थामस।
फेडरेशन कप का लिया बदला
सही मायने में तमिलनाडु की टीम ने राजधानी में हाल ही में खेली गई 25वीं फेडरेशन कप बास्केटबाल चैंपियनशिप का बदला चुकाया। तमिलनाडु की टीम में सभी खिलाड़ी दक्षिण रेलवे के शामिल थे और चूंकि रेलवे को नेशनल गेम्स में इंट्री नहीं मिलती, इसलिए दक्षिण रेलवे के खिलाड़ियों ने तमिलनाडु का प्रतिनिधित्व किया। फेडरेशन कप में छत्तीसगढ़ ने तमिलनाडु को फाइनल मुकाबले में पराजित किया था। इस हार का बदला तमिलनाडु ने नेशनल गेम्स में ले लिया। असम के 33वें राष्ट्रीय खेलों में भी तमिलनाडु ने छत्तीसगढ़ को शिकस्त दी थी।

 
सिर्फ पहले क्वार्टर में मिली बढ़त
छत्तीसगढ़ की महिला बास्केटबाल टीम को सिर्फ पहले ही क्वार्टर में बढ़त मिल सकी। पहले क्वार्टर में राज्य ने तमिलनाडु के खिलाफ 21-19 अंक से बढ़त बना ली थी। लेकिन इसके बाद के क्वार्टर में छत्तीसगढ़ को पराजय का सामना करना पड़ा। दूसरे क्वार्टर में 31-47, तीसरे क्वार्टर में 45-66 और अंतिम क्वार्टर में 79-58 से पराजय का सामना करना पड़ा। टीम की कप्तान अंजु लकड़ा ने 20, एम पुष्पा ने 10, सीमा सिंह ने 9, अरुणा किंडो ने 8 और भारती नेताम ने 8 अंक बनाए। टीम के कोच राजेश पटेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की टीम का स्वर्ण पदक हासिल करने का सपना टूट गया। हमारे खिलाड़ी दूसरे और तीसरे क्वार्टर में अच्छा नहीं खेल सके। श्री पटेल ने कहा कि फिर भी टीम ने संतोषजनक प्रदर्शन किया और लगातार तीसरी बार हम नेशनल गेम्स के फाइनल में पहुंचे हैं जो राज्य के लिए उपलब्धि है।


हैंडबाल टीम का विजय अभियान जारी
34वें राष्ट्रीय खेलों में छत्तीसगढ़ की महिला हैंडबाल टीम का विजय अभियान जारी है। दूसरे लीग मैच में छत्तीसगढ़ ने हरियाणा को छह गोल के अंतर के साथ 28-22 अंक से पराजित कर दिया। इस मैच में छत्तीसगढ़ ने शुरुआती बढ़त बनाए रखी और पहले हाफ में ही 14-8 अंक से बढ़त बना ली थी। टीम की करिश्मा साहू ने 9, वेंकट लक्ष्मी ने 5, माधवी ने 5, अनामिका ने 4, श्रीमती एम अनिता राव  और निधि जायसवाल ने दो-दो गोल किए। छत्तीसगढ़ हैंडबाल एसोसिएशन और राज्य ओलंपिक संघ के सचिव बशीर अहमद खान ने बताया कि हैंडबाल की टीम से पदक की उम्मीद है और टीम आशा के अनुरूप प्रदर्शन कर रही है।
टीम -श्रीमती अनिता राव, अनामिका मुखर्जी, वेंकट लक्ष्मी, डी माधवी, श्रीमती शबनम फिरोज अंसारी, निश पाटिल, मति मुरमु (सभी बिलासपुर रेलवे), करिश्मा साहू, श्रीमती जूलियट विनय, दुर्गा तिवारी, रूपा साह, रीना यादव (सभी दुर्ग जिला), निधि जायसवाल (महासमुंद), चित्तेश्वरी ध्रुव (रायपुर),संध्या ध्रुव बिलासपुर,  सीमा पाठक, सावित्री मंडावी, कोच शेख मौला, बीअर दश, मैनेजर उमेश सिंह।